मुहर्रम के महीने में किस बुज़रुग का उर्स किस तारीख को होता है?

मुहर्रम के महीने में किस बुज़रुग का उर्स किस तारीख को होता है?

Pic Source – pinterest.com माहे मुहर्रम मुबारक हो, इस्लामी नया साल मुबारक, माहे मुर्रम को मुहर्रमुल हराम क्यों? कहते हैं :- मुहर्रम लफ्ज़ “हुरमत” से बना है यानी ताज़ीम अहले अरब यानि अरब के रहने वाले इस महीने की बहुत ताज़ीम करते थे और इस में लड़ाई झगड़ा और...
हज़रत इस्माईल अलैहिस्सलाम की क़ुरबानी का वाक़िया

हज़रत इस्माईल अलैहिस्सलाम की क़ुरबानी का वाक़िया

तीनो रात एक तरह ख्वाब :- हज़रते इब्राहिम अलैहिस्सला ने जुलहज की आठवीं रात एक ख्वाब देखा जिस में कोई कहने वाला कह रहा है बेशक अल्लाह अज़्ज़ा वजल तुम्हे अपने बेटे को ज़िबह का करने का हुक्म देता है आप सुबह से शाम तक इस बारे में गौर फरमाते रहे के ये ख्वाब अल्लाह अज़्ज़ा वजल की...
ज़िल हिज्जा के महीने में किस बुज़रुग का उर्स किस तारीख को होता है

ज़िल हिज्जा के महीने में किस बुज़रुग का उर्स किस तारीख को होता है

ज़िल हिज्जा यानी हज वाला महीना इस महीने में मुस्लमान हज अदा करते हैं इस लिए इसे ज़िल हिज्जा कहते हैं | हदीसे नबवी :- अल्लाह तआला ने माहे ज़िल हिज्जा को बड़ी बुज़ुर्गी और फ़ज़ीलत का महीना बनाया है इस माह के इब्तिदाई 10 दिन बहुत मुबारक हैं और इस की इबादत का बहुत बड़ा सवाब है और...
ज़िल क़ादा के महीने में किस बुज़ुर्ग का उर्स किस तारीख को होता है?

ज़िल क़ादा के महीने में किस बुज़ुर्ग का उर्स किस तारीख को होता है?

ज़िल क़ादा का जो लफ्ज़ है :- वो ‘क़ादा’ से बना है यानी बैठना इस महीने में अरब के लोग कहीं आते जाते नहीं थे, घर में ही बैठते थे. माहे ज़िल क़ादा के ख़ास दिन S.NoWisaalBuzurgane DeenMazaar Location 11 ज़िल क़ादाहज़रत इमाम शम्सुद्दीन मुहम्मद अल ज़हबी रहमतुल्लाह अलैहदमिश्क़ / सीरिया...
क़ौमे लूत की तभाहकारियाँ

क़ौमे लूत की तभाहकारियाँ

इब्राहीम खलीलुल्लाह के भतीजे :- हज़रत सय्यदना लूत अलैहिस्सलाम हज़रत सय्यदना इब्राहीम अलैहिस्सलाम के भतीजे हैं सदूम के नबी थे | और आप हज़रत सय्यदना इब्राहीम खलीलुल्लाह के साथ हिजरत करके मुल्के शाम में आये थे और हज़रत सय्यदना इब्राहीम खलीलुल्लाह की दुआ से आप नबी बनाए गए |...
क़ाबील ने हाबील का क़त्ल क्यों किया और उसका अंजाम क्या हुआ?

क़ाबील ने हाबील का क़त्ल क्यों किया और उसका अंजाम क्या हुआ?

सवाल :- हाबील और क़ाबील के साथ जो लड़किया पैदा हुई थी उनके नाम क्या थे ?जवाब :- हज़रत हव्वा रदियल्लाहु अन्हा के हर हमल में एक लड़का और लड़की पैदा होते थे | क़ाबील के साथ जो लड़की हुई उसका नाम “अक़लीमा” था और हाबील के साथ जो लड़की हुई उसका नाम “लयोदा”...