सफर का माना है “खाली होना” इस महीने में अहले अरब खाने पीने की चीज़ों की लिए बाहर निकल जाते थे और उन के मकान खाली होते थे |

माहे सफर का चाँद देख कर सूरह अल नस्र पढ़ें |
ﺑِﺴْﻢِ ﺍﻟﻠَّﻪِ ﺍﻟﺮَّﺣْﻤَٰﻦِ ﺍﻟﺮَّﺣِﻴﻢِ
ﺇِﺫَﺍ ﺟَﺎﺀَ ﻧَﺼْﺮُ ﺍﻟﻠَّﻪِ ﻭَﺍﻟْﻔَﺘْﺢُ
ﻭَﺭَﺃَﻳْﺖَ ﺍﻟﻨَّﺎﺱَ ﻳَﺪْﺧُﻠُﻮﻥَ ﻓِﻲ ﺩِﻳﻦِ ﺍﻟﻠَّﻪِ ﺃَﻓْﻮَﺍﺟًﺎ
ﻓَﺴَﺒِّﺢْ ﺑِﺤَﻤْﺪِ ﺭَﺑِّﻚَ ﻭَﺍﺳْﺘَﻐْﻔِﺮْﻩُ ۚ ﺇِﻧَّﻪُ ﻛَﺎﻥَ ﺗَﻮَّﺍﺑًﺎ

ﺍﻟﻠَّﻬُﻢَّ ﺃَﻫِﻠَّﻪُ ﻋﻠَﻴْﻨَﺎ ﺑِﺎﻷَﻣْﻦِ ﻭﺍﻹِﻳﻤَﺎﻥِ ﻭَﺍﻟﺴَّﻼﻣَﺔِ ﻭﺍﻹِﺳْﻼﻡِ ، ﺭَﺑّﻲ ﻭﺭَﺑُّﻚَ ﺍﻟﻠَّﻪ ، ﻫﻼﻝ ﺭﺷﺪ ﻭﺧﻴﺮ


Allāhumma ahillahu alayna bil amni wal eimaani was salaamati wal islaami Rabbee wa Rabbuk-Allāh hilaalu rushdin wa khayrin.


अल्लाहुम्म अहिल्लहु अलयना बिल अम्नि वल ईमानि वस्सलामति वल इस्लामि रब्बी व रब्बुकल्लाह हिलालु रुश्दिन व ख़ैरिन।

Read this also ज़िल हिज्जा के महीने में किस बुज़रुग का उर्स किस तारीख को होता है 

अवाम में ये गलत फेहमी है के इस महीने में कोई अच्छा काम नहीं करना चाहिए, शादी नहीं करनी चाहिए और किसी से रिश्ते की बात नहीं करनी चाहिए, नया कारोबार शुरू नहीं करना चाहिए और कोई नयी चीज़ भी नहीं खरीदनी चाहिए, ये सब जिहालत है , इस महीने को बुरा या मनहूस मानना यह जिहालत है, आशिकाने मुस्तफा को चाहिए के माहे सफर को ज़्यादा से ज़्यादा इबादते इलाही में गुज़ारें |
इस महीने के इब्तिदाई 13 दिनों में सूरह तगाबुन की तिलावत करें |
और या “अल्लाहु” या “बासितु” या “हफ़ीज़ु” का विरद कसरत से करें,
और जब फ़ारिग़ हो तो ज़्यादा से ज़्यादा वक़्त ज़िर्को दुरूद और अस्तग़फ़ार पढ़ने में गुज़ारें,
नमाज़े ईशा के बाद 2 रकअत नफ़्ल नमाज़ हुसूले खैरो बरकत की निय्यत से पढ़ें,
फिर सूरह अल फलक और सूरह अल नास पढ़ें, और अपने लिए और तमाम उम्मते मुस्तफा के लिए दुआए खैर करें |
और शैतान के मकरो फरेब से और काफिरो और मुनाफ़िक़ों के शर से और ज़ालिमों और हासिदो के शर से हिफाज़त के लिए और तमाम परेशानियों और बीमारियों से निजात के लिए दुआ करें |

Read this also मुहर्रम के महीने में किस बुज़रुग का उर्स किस तारीख को होता है?

माहे सफर के ख़ास दिन : –

Buzurgane Deen WisaalMazaar Location
हज़रत सय्यद हाजी वारिस अली शाह रहमतुल्लाह अलैह 1 माहे सफर देवा शरीफ उत्तर प्रदेश
हज़रत सय्यद शाह अबुल क़ासिम इस्माईल हसन बरकाती "उर्फ़ शाह जी मियां" रहमतुल्लाह अलैह1 माहे सफर मरेहरा शरीफ, उत्तर प्रदेश
हज़रत मौलाना अहमद मियां फ़ज़्ले रहमान साहब गंज मुरादाबादी रहमतुल्लाह अलैह 1 माहे सफर गंज मुरादाबादी, उत्तर प्रदेश
हज़रत ख्वाजा खुदा बख्श मुल्तानी खैरपुरी रहमतुल्लाह अलैह 1 माहे सफर खैरपुर, पाकिस्तान
हज़रत ख्वाजा दाना शाह रहमतुल्लाह अलैह 3 माहे सफरसूरत, गुजरात
हज़रत इमाम मुहम्मद हाकिम मुहद्दिस निशापुरी रहमतुल्लाह अलैह 3 माहे सफरनिशापुर, ईरान
हज़रत मौलाना मुफ़्ती शाह महमूद जान रहमतुल्लाह अलैह 3 माहे सफरजाम जोधपुर, गुजरात
यौमे विसाल उम्मुल मोमिनीन हज़रते मैमूना रदियल्लाहु तआला अन्हा5 माहे सफरसरीफ, मक्का
हज़रत ख्वाजा याक़ूब चरखी रहमतुल्लाह अलैह5 माहे सफरताजकिस्तान
हज़रत मौलवी शाह नईमुल्लाह नक्शबंदी बहराइची रहमतुल्लाह अलैह5 माहे सफरबहराइच, उत्तर प्रदेश
हज़रत हसनैन रज़ा खान रहमतुल्लाह अलैह5 माहे सफरबरैली, उत्तर प्रदेश
हज़रत अल्लामा व मौलाना शरीफुल हक़ अमजदी रहमतुल्लाह अलैह 6 माहे सफरघोसी उत्तर प्रदेश
हज़रत सय्यद अब्दुल्लाह शाह क़ादरी उर्फ़े बुल्लेह शाह बाबा रहमतुल्लाह अलैह 6 माहे सफरकसूर पाकिस्तान
हज़रत ख्वाजा हमीदुद्दीन चाहल्दाह सुहारवर्दी रहमतुल्लाह अलैह 6 माहे सफरबीरपुर, गुजरात
हज़रत ख्वाजा मुतमईन शाह रहमतुल्लाह अलैह 6 माहे सफरतूंसा पाकिस्तान
हज़रत अब्दुल वहाब ग़ौस ज़करिया मुल्तानी रहमतुल्लाह अलैह 6 माहे सफरलाठी, गुजरात
हज़रत शैख़ बहाउद्दीन ज़करिया मुल्तानी रहमतुल्लाह अलैह 7 माहे सफरमुल्तान पाकिस्तान
हज़रत शैख़ ख्वाजा मुहम्मद सुलैमान चिश्ती तूंसवी रहमतुल्लाह अलैह 7 माहे सफरतूंसा पाकिस्तान
हज़रत शैख़ ख्वाजा बुरहानुद्दीन ग़रीब रहमतुल्लाह अलैह 8 माहे सफर खुल्दाबाद, महाराष्ट्र
हज़रत शैख़ अब्दुर रज़्ज़ाक़ विलायत अली उर्फ़े दीवाना शाह रहमतुल्लाह अलैह 8 माहे सफर राजस्थान
हज़रत मौलाना सय्यद लिआक़त अली शाह रज़वी रहमतुल्लाह अलैह 8 माहे सफर
हज़रत अब्दुल्ला इबने ज़ुबैर रदियल्लाहु तआला अन्हु 9 माहे सफरमक्का शरीफ
हज़रत ख्वाजा अबुल उला नक्शबंदी रहमतुल्लाह अलैह 9 माहे सफरआगरा उत्तर प्रदेश
हज़रत ख्वाजा अबू मोहम्मद चिश्ती नासिरी अल जोहरी रहमतुल्लाह अलैह 9 माहे सफरअहमदाबाद, गुजरात
यौमे विसाल उम्मुल मोमिनीन हज़रते जूवेरिया बिन्ते हारिस रदियल्लाहु तआला अन्हा 10 माहे सफरमदीना, मुनव्वरा
हज़रत सौबान जुन्नून मिसरी रहमतुल्लाह अलैह 10 माहे सफरकैरो, इजिप्त
हज़रत सय्यद शाह अहमद शम्से आलम हुसैनी रहमतुल्लाह अलैह 10 माहे सफररायचूर, कर्नाटक
हज़रत सलमान फ़ारसि रदियल्लाहु तआला अन्हु 11 माहे सफरमदाइन, इराक
हज़रत मुफ़स्सिरे आज़म इब्राहीम रज़ा उर्फ़ जीलानी मियां रहमतुल्लाह अलैह 11 माहे सफरबरैली, उत्तर प्रदेश
हज़रत ग़ुलाम अली अशरफी ओकरवी रहमतुल्लाह अलैह 11 माहे सफर
हज़रत शाह अब्दुर रहीम मुहद्दिस देहलवी रहमतुल्लाह अलैह 12 माहे सफरदिल्ली
हज़रत शाह अल्लामा फज़ले हक़ खैराबादी रहमतुल्लाहि अलैह 12 माहे सफरपोर्ट ब्लेयर, अंडमान
हज़रत सय्यद अब्दुल जलील क़ादरी रहमतुल्लाह अलैह 12 माहे सफरअहमदाबाद, गुजरात)
हज़रत इमाम अहमद नसाई रहमतुल्लाह अलैह 13 माहे सफरमक्का मुकर्रमा
हज़रत पीर सय्यद शाह हसन अली क़ुतुब क़ादरी रहमतुल्लाह अलैह 13 माहे सफरकोडिनार, गुजरात
हज़रत मालिक बिन दीनार रदियल्लाहु तआला अन्हु 14 माहे सफरकासरगोड़, केरला
हज़रत शाह अब्दुल लतीफ़ भिटाई रहमतुल्लाह अलैह 14 माहे सफरभीत शाह, सिंध पाकिस्तान
हज़रत मौलाना शहाबुद्दीन उर्फ़ अनीसुर रहमान रहमतुल्लाह अलैह 14 माहे सफरजबलपुर, मध्य प्रदेश
हज़रत सय्यद बरकत अली शाह नक्शबंदी रहमतुल्लाह अलैह 14 माहे सफरकोलकाता, बंगाल
हज़रत शाह अहमद जाफर शिराज़ी रहमतुल्लाह अलैह 15 माहे सफरअहमदाबाद, गुजरात
हज़रत अरशदुल क़ादरी रहमतुल्लाह अलैह 15 माहे सफरजमशेद पुर इंडिया
हज़रत सय्यद खलील अहमद हैदरूल क़ादरी रहमतुल्लाह अलैह 15 माहे सफरहसनपुरा, बिहार
हज़रत अब्दुर रऊफ उस्मानी उर्फ़ रुपान शहीद रहमतुल्लाह अलैह 16 माहे सफरराय बरेली, उत्तर प्रदेश
हज़रत इमामुल मिल्लत अल्लामा मुफ़्ती शाह मोहम्मद हसन संभली रहमतुल्लाह अलैह (हज़रत इमामुल मिल्लत अल्लामा मुफ़्ती शाह मोहम्मद हसन संभली रहमतुल्लाह अलैह 16 माहे सफर उत्तर प्रदेश
हज़रत शाह अली जी रिफाई रहमतुल्लाह अलैह 17 माहे सफर गुजरात
हज़रत शाह दाता गंज बख्श रहमतुल्लाह अलैह 18 माहे सफर पाकिस्तान
हज़रत पीर नसीरुद्दीन नसीर रहमतुल्लाह अलैह 18 माहे सफर पाकिस्तान
हज़रत ख्वाजा मंसूर मुहम्मद हुसैन शाह रहमतुल्लाह अलैह 18 माहे सफरहँसोत, गुजरात
हज़रत मीर सय्यद अहमद कालपि रहमतुल्लाह अलैह 19 माहे सफरकालपी शरीफ, उत्तर प्रदेश
हज़रत तवक्कल मस्तान शाह सुहरवर्दी रहमतुल्लाह अलैह 19 माहे सफरबैंगलोर, कर्नाटक
हज़रत अबुल क़ासिम नक्शबंदी खुरासानी रहमतुल्लाह अलैह 21 माहे सफरगोलपारा, असम
हज़रत ख्वाजा महमूद राजन चिश्ती रहमतुल्लाह अलैह 22 माहे सफर गुजरात गुजरात
हज़रत ख्वाजा शैख़ शाह ग़ुलाम अली नक्शबंदी देहलवी रहमतुल्लाह अलैह 22 माहे सफर दिल्ली
हज़रत सय्यद रियाज़ुद्दीन राजवली नक्शबंदी खुरासानी रहमतुल्लाह अलैह 22 माहे सफरगुजरात
हज़रत ख्वाजा अबुल क़ासिम गौरगनी रहमतुल्लाह अलैह 23 माहे सफरगुरगन,ईरान
हज़रत मखदूम शाह मीना लखनवी रहमतुल्लाह अलैह 23 माहे सफरलखनऊ, उत्तर
हज़रत शाह सुलतान महमूद ग़ज़नवी रहमतुल्लाह अलैह 23 माहे सफरग़ज़नवी अफ़ग़ानिस्तान
हज़रत बाबा अली शेर बंगाली शत्तारी रहमतुल्लाह अलैह 23 माहे सफरअहमदाबाद, गुजरात
हज़रत ख्वाजा शम्सुद्दीन सिआलवी रहमतुल्लाह अलैह 24 माहे सफरपंजाब पाकिस्तान
हज़रत अल्लामा अब्दुल हकीम सिआलकोटि रहमतुल्लाह अलैह 24 माहे सफरसिआलकोट, पाकिस्तान
मुजद्दिदे आज़म आला हज़रत इमाम अहमद रज़ा खान रहमतुल्लाह अलैह 25 माहे सफरबरैली, उत्तर प्रदेश
हज़रत सय्यद मालिक बिन अल अरबी अल सनूसी रहमतुल्लाह अलैह 26 माहे सफरमदीना,मुनव्वरा
हज़रत मीर सय्यद हसन क़ादरी अल जिलानी रहमतुल्लाह अलैह 26 माहे सफरबगदाद, इराक
हज़रत ख्वाजा इल्मुद्दीन मुहम्मद चिश्ती रहमतुल्लाह अलैह 26 माहे सफरपटन, गुजरात
हज़रत चाँद शाह वली रहमतुल्लाह अलैह 26 माहे सफरनागपुर, महाराष्ट्र
हज़रत मीरान पीर बादशाह रहमतुल्लाह अलैह 26 माहे सफरपोरबंदर, गुजरात
हज़रत हज़रत ख्वाजा अब्दुल वाहिद बिन ज़ैद रहमतुल्लाह अलैह 27 माहे सफर बसरा, इराक
हज़रत सुलतान सलाहुद्दीन अय्यूबी रहमतुल्लाह अलैह 27 माहे सफर दमश्क, सीरिया
हज़रत जमालुद्दीन क़ादरी चिश्ती ताज़ी रहमतुल्लाह अलैह 27 माहे सफर छोटा उदेपुर, गुजरात
हज़रत इमाम हसन मुज्तबा रदियल्लाहु तआला अन्हु 28 माहे सफरमदीना मुनव्वरा
हज़रत मुजद्दिदे अल्फे सानी इमाम शैख़ अहमद सिरहिंदी रहमतुल्लाह अलैह 28 माहे सफरसरहिंद, पंजाब
हज़रत अब्दुर रऊफ उर्फ़ मस्तान बाबा रहमतुल्लाह अलैह 28 माहे सफरराजस्थान
हज़रत पीर महर अली शाह गोलड़वि रहमतुल्लाह अलैह 29 माहे सफरगोल्ड़ा, पाकिस्तान

Read this also ज़िल क़ादा के महीने में किस बुज़ुर्ग का उर्स किस तारीख को होता है?

अल्लाह तआला इस माहे मुबारक में उस के हबीब सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के सदक़े में और तमाम औलिया अल्लाह के वसीले से सब को मुकम्मल इश्क़े रसूल अता फरमाए और सब को हिदायत अता फरमाए और सब के ईमान की हिफाज़त फरमाए और सही तरीके से ज़्यादा इबादत करने की तौफ़ीक़ अता फरमाए और हमारे नेक अमल क़ुबूल फरमाए और इन बुज़ुर्गाने दीन को इसाले सवाब करने की तौफ़ीक़ अता फरमाए और इस्लाम का बोलबाला अता फरमाए |.
और सब को दुनिया व आख़िरत में कामयाबी और इज़्ज़त अता फरमाए और सब की नेक जाइज़ मुरादों को पूरी फरमाए, और इन बातो को याद रख कर उस पर अमल करने की और दुसरो को बताने की तौफ़ीक़ अता फरमाए आमीन |

Read this also –अस्हाबे कहफ़ (Ashab e Kahf) कौन लोग हैं?

Share This